भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कितना और पढूँ मैं? / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितना और पढूँ मैं बाबा,
कितना और पढूँ?

पापा कहते, पढ़ो-पढ़ो जी
मम्मी कहती, अब तू पढ़ ले
दादी कहतीं-लिखन-पढ़न की
सभी सीढ़ियाँ चढ़ ले।
सिर पर लेकर भारी पत्थर
डगमग-डगमग कदम बढ़ाकर,
कितने दुर्ग चढूँ मैं बाबा
कितने दुर्ग चढूँ?

बस्ता है या भारी पत्थर
नहीं भावना इसमें दिल है,
चाहे जितनी मेहनत कर लो
आती पास नहीं मंजिल है।
खेल-कूद से छुट्टी कर लूँ
क्या मित्रों से कुट्टी कर लूँ?
कितना और कुढूँ मैं बाबा
कितना और कुढूँ?

झंझट हैं ये मोटे पोथे
जैसे कठिन लड़ाई हो,
निकल इन्हीं से दुश्मन सेना
मुझे पीटने आई हो।
यहाँ फँसा हूँ, वहाँ फँसा हूँ
सब दिन सब डरता रहता हूँ,
कितना और लडूँ मैं बाबा
कितना और लडूँ?