भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कितना पसन्द है हमें दिखावा करना / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  कितना पसन्द है हमें दिखावा करना

ओह !

कितना पसन्द है हमें

दिखावा करना

और कितनी सहजता से हम

यह भूल जाते हैं, प्यारे

कि बचपन में मृत्यु होती है

अधिक निकट हमारे


बच्चा

जब ठीक से सो नहीं पाता

चिड़चिड़ाता है

पर मैं भला किस पर

हो सकता हूँ नाराज़

जब अकेला चल रहा हूँ

अपनी राह पर आज


मैं सोना नहीं चाहता

गहरे जल में डूबी मछली-सा

निश्चिन्त बेहोश नींद

मुझे प्रिय है

राह अपनी स्वतन्त्र

जानता हूँ निष्कंटक नहीं वह

कठिनाइयाँ

उस पर होंगी अनन्त


(रचनाकाल : 14 फरवरी, 1932)