भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कितना बड़ा सुथन्ना जी / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्यारे-प्यारे मुन्ना जी,
पहने खूब सुथन्ना जी!
उसमें भालू, चीता, शेर
तोता, मैना और बटेर।
सबको साथ घुमाते हैं,
सबको डाँट पिलाते हैं।
प्यारे-प्यारे मुन्ना जी,
कितना बड़ा सुथन्ना जी!