भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कितने हाथ सवाली हैं / ज़फ़र ताबिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितने हाथ सवाली हैं
कितनी जेबें ख़ाली हैं

सब कुछ देख रहा हूँ मैं
रातें कितनी काली हैं

मंज़र से ला-मंज़र तक
आँखें ख़ाली ख़ाली हैं

उस ने कोरे-काग़ज़ पर
कितनी शक्लें ढाली हैं

सिर्फ़ ज़फ़र ‘ताबिश’ हैं हम
‘ग़ालिब’ ‘मीर’ न ‘हाली’ हैं