भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किथे ज़िंदगी रोज़ तड़फे पई थी / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किथे ज़िंदगी रोज़ तड़फे पई थी
किथे ज़िंदगी ॾिसु त मुर्के पई थी
किथे ज़िंदगी पखीअ जियां उॾरे पई थी
किथे ज़िंदगी ॾिस त सिरिके पई थी
किथे ज़िंदगी आहे लीडुनि में लिपटियल
किथे ज़िंदगी ॾिसु त चिमके पई थी
किथे ज़िंदगीअ जो झुरियल आहे जोभन
किथे ज़िंदगीअ जी अस्मत त लुटजे पई थी
किथे ज़िंदगी आहे सिंगारियल सेज ते
किथे ज़िंदगी वारीअ ते फथिके पई थी
सभ कंहिंजी आहे पंहिंजी ज़िंदगी
सुहिणनि रंगनि सां त रंगिजे पई थी
अचो त ज़िंदगीअ सां करियूं हिक मुलाक़ात
तिरीअ ते खणी सिरु निमाणी त धिकजे पई थी।