भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

किया कलाम ये 'सौदा' से एक आक़िल ने / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किया कलाम ये 'सौदा' से एक आक़िल[1] ने
किसू से रब्त[2]कोई ज़ेरे-आसमाँ[3]न करे
किया जो तजरबा, उन दोस्तों को बद पाया
बदी का जिनपे किसी तरह दिल ग़ुमाँ न करे
चखा उन्हों की जो ऐ यार दोस्ती का शहद
वो तल्ख़-[4], कभू ज़हरे-दुश्मनाँ[5] न करे
बग़ैर बुख़्लो-हसद[6] चाहिए कोई मज़कूर[7]
उन्हों का मेहरो-मुरव्वत के दर्मियाँ न करे
मैं उनसे मिलके नदाँ[8] इख़्तियार उज़लत[9] की
दो-चार उनसे ख़ुदा मुझको दर-जहाँ[10] न करे
वो आदमी है बहुत दूर आदमीयत से
जो गोशे-दिल[11] ब-सु-ए-हर्फ़े-आक़िलाँ[12]न करे
वो आश्ना हैं जहाँ में कि इम्तिहान के बाद
ज़बाँ वो कि लान[13] उनपे हर ज़माँ[14] न करे

ये सुनके उससे कहा मुस्कुरा के 'सौदा' ने
शिकायत इतनी किसू की कोई बयाँ न करे
भले-बुरे के तुझे इम्तिहान से क्या काम
ये शुक्र कर जो कोई तुझको[15] इम्तहाँ न करे

शब्दार्थ
  1. बुद्धिमान
  2. सम्बन्ध
  3. आकाश के नीचे
  4. कड़वा
  5. दुश्मनों का दिया ज़हर
  6. कंजूसी और जलन के बिना
  7. ज़िक्र
  8. नदान, मन मारकर
  9. एकान्तवास
  10. दुनिया में
  11. दिल का कोना
  12. बुद्धिमानों के कथन की ओर
  13. लानत
  14. ज़माना
  15. तेरा