भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किरण का सन्देश / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे कमरे में सूरज की,
एक किरण नित आती है।
जिसको पाती पास उसी पर,
अपनी चमक चढ़ाती है।
बच्चे होते हैं उदास पर,
वह हरदम मुस्काती है।
चुपके से आखें चमका कर,
कानों में कह जाती है।
प्यारे बच्चे! मुझसा ही है,
चमकदार तेरा जीवन।
भारत माता सूरज सी है,
तू है उसकी एक किरण।