भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किलै पड़ीं गेड़ / सुधीर बर्त्वाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन बौड़ला, बौड़ली रात
ह्वली नई सुबेर।
खुशियों की कुट्यारि संभाळा भयों।
अब ना करा अबेर।

ऊजु-पैंछु बणै रखा
बणैकि रखा पच्छ्याण।
गौंऽऽ समाज तै अग्वड़ी लिजावा।
किलै धरीं केर ?

रीत, गीत, भाषा सजा ऽऽ
संजैकि रखा व्यवार।
बांजा पडिन जू गौं-गुठ्यार।
खैणा तौं ते फ्येर।

बगाणा रा गंगा प्रेम की
मनख्यात अर भै-भयात की ।
न्यूतू- पैणु बणै रखा।
किलै कर्यूं बैर ?

धुणसा-फुणसि मचीं किलै
ठैर दूं घड़ैक।
बत - बिचार बणै रखा।
किलै पड़ीं गेड़ ?