भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसके हाथ उठाते हैं कौर / पारुल पुखराज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न अन्न कम पड़ता है
न जल

किस के हाथ उठाते हैं कौर

कौन जीमता है
थाल से
अदृश्य
रसोई में

उमगती कंठ में
हिचकी
काँपता जलपात्र

ईश्वर
ये तुम हो

जूठा जिसे रास आता
मेरा !