भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी की चाह किसी जुस्तजू के चक्कर में / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी की चाह किसी जुस्तजू के चक्कर में ।
वो फँस गया है फ़रेबी गुरु के चक्कर में ।

कोई तो डूब गया आचमन के पानी में,
उलझ के रह गया कोई वज़ू के चक्कर में ।

तुम्हारे वक़्त की क़ीमत है जाओ कैश करो,
कहाँ पड़े हो मेरी गुफ्तगू के चक्कर में ।

बुरी न लगती हमें अपनी चाकदामानी,
पड़ा न होता जो दामन रफ़ू के चक्कर में ।

उसे अब अपने किए पर बहुत निदामत है,
लहू बहा दिया उसने लहू के चक्कर में ।

जिस आरज़ू ने हमें गामज़न किया था ’नदीम’,
ठहर गए हैं उसी आरज़ू के चक्कर में ।