भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी के साथ न होने के दुख भी झेले हैं / मनमोहन 'तल्ख़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी के साथ न होने के दुख भी झेले हैं
किसी के साथ मगर और भी अकेले हैं

अब इस के बाद न जाने नसीब में क्या है
न साथ आओ हमारे बहुत झमेले है

कहाँ है याद मिला कोई कब तो कब बिछड़ा
हम अपने ध्यान से उतरे हुए से मेले हैं

कहो न मुझ से के चलते हैं अब मिलेंगे फिर
ये खेल वो हैं के सदियों से लोग खेले हैं

जो घर में जाऊँ तो आवाज़ तक नहीं कोई
गली में आऊँ तो हर सू सदा के रेले हैं

जो लोग भूल-भुलय्याँ हैं ‘तल्ख़’ अब अपनी
नहीं वो सिर्फ़ अकेले बहुत अकेले हैं