भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी हबीब ने लफ़्जों का हार भेजा है / हसन 'नईम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी हबीब ने लफ़्जों का हार भेजा है
बसा के इत्र में दिल का गुबार भेजा है

हुई जो शाम तो अपना लिबास पहना कर
शफ़क़ को जैसे दम-ए-इंतिज़ार भेजा है

किसी ने डूबती सुब्हों तड़पती शामों को
ग़ज़ल के जाम में शब का ख़ुमार भेजा है

सजा के दामन-ए-गुल को शरारा-ए-नम से
किसी ने ताज-ए-दिल-ए-दाग़-दार भेजा है

किसे बुलाने को इस लाला-ए-वफ़ा ने ‘हसन’
सबा को मेरी तरफ़ बार बार भेजा है