भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस्ती करै जातरा / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर सूं
घर सारू
कुण करै जातरा
मन टोरै
कोरै घर
डूंगरां
थळां
जळां।

घर टिकै
नींव माथै
आस माथै
बिसवास माथै

झील तकै
आस रो समन्दर
किस्ती करै जातरा
घर उंचायां
नींव विसवास री।