भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस पे ये ग़म असर नहीं / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किस पे ये ग़म असर नहीं करते
]िफा लेकिन शजर नहीं करते

हम बदलते नहीं हवा के साथ
हम पे मौसम असर नहीं करते

एक सूरज बहुत ज़रूरी है
चाँद - तारे सहर नहीं करते

उन गुलों में महक नहीं आती
खारों में जो बसर नहीं करते

रोने का भी सलीका होता है
अपने दामन को तर नहीं करते