भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कीं ठीक नीं / धनपत स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देही रै माळियै
बेजां भर्योड़ा है
भगवानां रा सिरज्या
गोळा-बारूद-भाला-बरछा
बैम में है अब
आपणां कारनामां
ओळपंचोळा-आडा-टेडा
जाबक ऊतपटांग
लाम्बा-लाम्बा तीबा
आवळ-कावळ टांका मार-मार
सांध राख्या है लीरा
जिण ढक राखी है
आपणी मैली काया।

हेली आपणीं
बजावै अणमणीं डï्यूटी
लगोलग हरमेस
जणां ई तो गुड़ै
ओ नासवान डील रो गाडो
बैंम पण रैवै हरमेस
है किण माथै ठाह नीं
म्हैं हूं, पण हूं कै नीं
ईयां लागतो रैवै हरमेस।