भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कीर्तन / विजय गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ, आओ आखेटक महाराज
धरती, अम्बर, नदी, सरोवर
सब पर राज जमाओ आप ।

बुद्धिजीवी खोपडि़यों में,
घुस-घुस जाओ
राग-साज, बोली-बानी पर
कस कर लात जमाओ आप ।
आओ-आओ...

हम चाकर हैं, पेट के मारे
आप बनिक हम, बनिज बिचारे
अगिन पेट की खूब जलाकर
अपनी रोटी सेंको आप ।
आओ-आओ...

हम झुके माथ, लुच्ची आशाएँ
टुच्चा जीवन, खोटी तृष्णाएँ
मर्मस्थल पर घात लगाकर
चुन-चुन बाण चलाओ आप ।

आओ-आओ आखेटक महाराज