भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ ऐसा था / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ ऐसा था जो अब भी
हम लोगों को एक दूसरे से जोड़ता था
अब भी हम एक दूसरे की ज़रूरत थे
अब भी ख़त्म नहीं हुई थी
संवाद की गुंजाइश
अब भी कुछ ऐसा था
हम लोगों के बीच
जो हत्यारे की पकड़ से बाहर था
जिस पर हत्यारे का हाथ डालना नामुमकिन था
और इसलिए मैं निश्चिंत था
कि फिर शुरू होगी
बातचीत पहले की तरह
और तब हमारे बीच
हत्यारा कहीं नहीं दिखाई देगा।