भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ तो चहरे भी हैं मलूल अलग / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ तो चेहरे भी हैं मलूल अलग
आईनों पर जमी है धूल अलग

आज एहसास हो रहा होगा
कर के बैठे हैं आप भूल अलग

रोज़ करता हूँ ख़ुद से समझोता
रोज़ रखता हूँ कुछ उसूल अलग

अपनी पहचान रख के बशाहर आओ
दिल की बस्ती के हैं उसूल अलग

अगली नस्लें चलेंगी फूलों पर
कीजिए राह से बबूल अलग