भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ देखा नहीं तूने बुराई के अलावा / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ देखा नहीं तूने बुराई के अलावा ।
क्या जाने तू क्या हूँ मैं शराबी के अलावा ।

इस भीड़ में जो भी हैं वो नादाँ हों कि दाना,
सब महव-ए-तमाशा हैं मदारी के अलावा ।

पढ़ने में नहीं आती है रिश्तों की इबारत,
कुछ भी नहीं बाक़ी है सियाही के अलावा ।

किरदार थे मंज़र थे मक़ासिद थे सबक़ थे,
सब कुछ था कहानी में कहानी के अलावा ।

तुम छोड़ के जब से गए इस खाना-ए-दिल को,
हर शै है ख़फ़ा मुझसे उदासी के अलावा ।