भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ बादल कुछ चाँद से प्यारे प्यारे लोग / राग़िब अख़्तर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ बादल कुछ चाँद से प्यारे प्यारे लोग
डूब गए जितने थे आँख के तारे लोग

कुछ पाने कुछ खो देने का धोका है
शहर में जो फिरतें हैं मारे मारे लोग

शहर-ए-बदन बस रैन-बसेरा जैसा है
मंज़िल पर कब रूकते हैं बंजारे लोग

रोज़ तमाशा मेरे डूबते रहने का
देख रहे हैं बैठे ख़्वाब किनारे लोग