भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ शे’र / नौ बहार साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.
ख़ुश्क पत्ता ही सही, रौन्द के आगे ना बढ़ो,
मैं गई रुत की निशानी हूँ, उठालो मुझको ।

2.