भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ समझा आपने / प्रताप सहगल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ देखा आपने
हाल में अन्धेरा हुआ
और मंच आलोकित हो उठा

कुछ सुना आपने
हाल में ख़ामोशी हुई
सूत्रधार अपना वक्तव्य देने लगा
और ख़ामोशी सन्नाटे में बदल गई

कुछ सोचा आपने
कि वक्तव्य देने के लिए
अन्धेरा और ख़ामोशी
कितनी ज़रूरी हैं।

ग़फ़लत में न रहें
सावधान होकर सोचें
आपको अन्धेरे में डालना
और ख़ामोशी से बांधना
कितना वाजिब है
कितना मुनासिब।

वक्तव्य दिया सूत्रधार ने
संगीत की लय
और पाँवों की ताल के साथ
वक्तव्य दिया सूत्रधार ने
ग़ौर किया आपने
पूरा नाटक ख़त्म हो गया
पर सूत्रधार का वक्तव्य नहीं
देखा आपने

प्रकाश ने फिर फैलकर आपको
अपनी बाँहों में भर लिया
आपने भी भर लिया
प्रकाश को
अपनी आत्मा में
चल दिए दर्शक-दीर्घा से बाहर
वक्तव्य को हनुमान चालीसा
बनाकर

ध्यान दिया आपने
कि आपके हाथ
वहीं कहीं तो नहीं रह गए
चिपके हुए कुर्सी के हत्थों के साथ
या पाँव
धँसे हुए फ़र्श में
या आँखें
या सिर
वहीं कहीं हवा में घुले
सूत्रधार के वक्तव्य के साथ।

कुछ समझा आपने ?