भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुझु थियो! / रीटा शहाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आधी रात जी
ख़ामोशीअ में
कुझु थियो
अहसासनि जे मौसीक़ीअ खे।

आधी रात जी
ख़ामोशीअ जी मौसीक़ीअ में
कुझु थियो
रूह जी गहराइअ खे

आधी रात जी
ख़ामोशीअ जी मौसीक़ीअ जे गहराईअ में
कुझु थियो
कल्पना जी गहराईअ खे

आधी रात जी
ख़ामोशीअ जी, मौसीक़ीअ जी
गहराईअ जी, ऊचाईअ में
कुझु थियो
अन्तःकरण जी तनहाईअ खे

ख़ामोशीअ जी, मौसीक़ीअ जी
गहराईअ जी, ऊचाईअ जी, तनहाईअ में
कुझु थियो
दिल जी बेक़रारीअ खे

आधी रात जी
ख़ामोशीअ जी, मौसीक़ीअ जी
गहराईअ जी, ऊचाईअ जी,
तनहाईअ जी, बेकरारीअ खे
कुझु थियो
शऊर जी क़रारीअ खे!

आधी रात जी
ख़ामोशीअ जी, मौसीक़ीअ जी
गहराईअ जी, ऊचाईअ जी,
तनहाईअ जी, बेक़रारीअ जी
क़रारीअ खे
कुझु थियो
सृजणु!