भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुट्टी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम्मी की पापा से
जब कुट्टी हो गई
खाने-पीने की
घर में छुट्टी हो गई ।

पहले पापा का
’टेम्प्रेचर’ ऊपर चढ़ा
फिर मम्मी का भी
थोड़ा आगे बढ़ा
झूठ-मूठ करते
सच्ची-मुच्ची हो गई ।

गुस्से में दोनों ने
जाने क्या-क्या कहा
फिर जब कहने को
कुछ भी बाक़ी न रहा
कमरे में जा मम्मी
मुँह ढक के सो गई ।