भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुतियो / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घरां पाळैड़ो
कुतियो
म्हारो हाथ चाटतां-चाटतां
अबै गुर्रावण लागग्यो है,

क्यूं कै
उण री संगत अबै
कुतियां सागै कम
अर मिनखां सागै
घणी हुवण नै लागगी है,

बो अबै खावै नीं
पण गुर्रावै घणौ है
बो जाणै/कै खावणै सूं
डरावणो घणो जरूरी है।