भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुत्ता पाल लो नये समधी जजमान कुत्ता पाल लो / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुत्ता पाल लो नये समधी जजमान कुत्ता पाल लो।
कुत्ता के राखे सें मिलै अैन चैन
समधिन की रखवारी करै दिन रैन
स्वाद चाख लो कुत्ता पाल लो...
कुत्ता के राखे कौ आसरौ बिलात
समधिन के पीछें लगौ रहे दिन रात
जरा देख लो। कुत्ता पाल लो...
कुत्ता के राखे सें पुरा जग जाये।
समधिन के आगे पीछे लगौ जाये।
जरा देख लो।
ओ समधी जजमान कुत्ता पाल लो।