भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुरजां / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


भीर हुवैलो
सीयाळै रै साथै-साथै
बिरहणियां रै आंसूड़ा रा कागद
जोवैला थारी बाट
आगलै मौसम री

कुरजां!
नीं जाणै म्हारी लुगायां
तू सारस है
बतख है
चिड़कली है
कै कीं और
बस इतरो जाणै
कंठां स्यूं हिवड़ै री पीड़
जद झरै-
संदेसो लेती जाइजे ए
उड़ती कुरजळियां।