भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुल्हाड़ी वृक्ष को काटते-काटते / वीरेन्द्र कुमार जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुल्हाड़ी वृक्ष को काटते-काटते
ठिठक गई :
गिर पड़ी...
हाय, उसने अपने ही को काट डाला!
सारा जंगल उसमें पसीज उठा,
वह चल पड़ी अरण्यानियों के पार :
देखते-देखते पारान्तर में
अचिन्ह हो गई।

एक ऊर्ध्वमूल वट-वृक्ष
शून्य में उग आया :
सारे वृक्ष उसकी शाखाओं में झूल गए!