भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुळं बुळांवती आंत / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उण
उडाया दिन भर
चिड़ी-कगला
बाजरी रै खेत सूं
सिंझ्या पड़ी
सोयौ चैन सूं
पण
भूखा नीं सोया
चिड़ी-कगला
बां री भांत
कद हुवै
अड़वां रै पेट में
कळबुळांवती आंत!