भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुस के बोढ़निया गे बेटी, सिरहौना लै सूतिहे / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रस्तुत गीत में पुनर्विवाह नहीं करने तथा एक बार जिससे विवाह संपन्न हो गया, आजीवन उसकी जीवनसंगिनी बने रहने का निर्देश किया गया है।

माँ बेटी को प्रातः उठकर घर-आँगन बुहाने का उपदेश देती है। बेटी के गौने का दिन निश्चित होने पर वह अपने पिता के पास जाती है और उससे अनुरोध करती है- ‘तुमने किस लोभ से मुझे दूसरे को दे दिया?’ पिता ने उत्तर दिया- ‘सिंदूर के लोभ से मैंने तुम्हें दूसरे को दिया।’ बेटी सिंदूर की पुड़िया लौटा देने का अनुरोध करती है। पिता कहता है- ‘बेटी, काँसा-पीतल लौटाया जाता है, सिंदूर की पुड़िया नहीं लौटाई जाती।’

कुस के बोढ़निया[1] गे बेटी, सिरहौना[2] लै सूतिहे।
होते भिनसरबा गे बेटी, अँगना बुहारिहे।
कोयली सबद गे बेटी, अँगना बुहारिहे॥1॥
बोढ़नी जे फेंकल गे बेटी, माझे[3] हे अँगना।
घोलटि[4] खँसलि[5] गे बेटी, अम्माँ के अँचरबा।
आबि[6] परलौं गे बेटी, तोहरो गवनमा॥2॥
कथि तोहर खैलिअ हो बाबा, कथि तोहर पहिरल[7]
कथिए लोभे हे बाबा, कैलऽ परघरिया[8]॥3॥
दूध भात खैलैं गे बेटी, खडु़किया[9] मोरा पहिरल।
सेनुरा के लोभे गे बेटी, कैलों परघरिया॥4॥
दूध भात समुझि लेहो[10] हो बाबा, समुझि लेहो खड़ुकिया।
सेनुरा जेकर लैलऽ हो बाबा, सेहो दहो फेरि॥5॥
काँसा पीतर रहिते गे बेटी, फेरलो बरु[11] जाय।
सेनुरा के पुरिया गे बेटी, फेरलो न जाय॥6॥

शब्दार्थ
  1. बढ़नी; झाडू़
  2. सिरहाना; चारपाई में सिर की ओर का भाग
  3. बीच
  4. लुढ़ककर
  5. गिर गई
  6. आ गया
  7. पहना
  8. पराये घर की; दूसरे के घर की
  9. कपड़े का छोटा टुकड़ा, जो लुंगी की तरह पहना जाता है
  10. सुरक्षित वापस ले लो
  11. बल्कि