भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कृष्ण जनम / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यशोदा जे अङण में वॻी शहनाई।
ॼायो नंद लालु आहे कृष्ण कन्हाई।।

रूप आ सुहिणो जंहिंजी सुहिणी सूरत
मन खे लुभाए थी, मोहिनी मूरत
छवी सांवरे जी आ सभु खे वणाई
ॼायो नंद लालु आहे कृष्ण कन्हाई।।

गोकुल जा ग्वाल सभु झूला झुलाईनि
नंद यशोदा खे वाधायूं वराइनि
वाह वाह जी मौज मती-थी सभु सणाईं
ॼायो नंद लालु आहे कृष्ण कन्हाई।।

हलो नंद द्वारे आयो प्रभू अवतार धारे
सावण महीने में आहे, अष्टमी मनाई
ॼायो नंद लालु आहे कृष्ण कन्हाई।।