भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कृष्ण ने कैसौ जुलम गुजारौ / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कृष्ण ने कैसौ जुलम गुजारौ, मेरी चूँदर पे रंग डारौ॥ टेक
रस्ता लई रोक हमारी, मारी भर-भरकै पिचकारी,
उत्पात करौ है भारी, कीनी कैसी हुशियारी। लई अकेली
घेर, न कीनी देर, श्याम गयौ आई, मो भोरी सखी की एक
पेश नहीं खाई। गयौ पिछारी ते ऊधम करके मोते
बजमारौ। मेरी.॥ अब मोकूँ घर जानों, वहाँ लड़े सास
सच मानो, जल्दी ते बताय बहानों, जाते मिले न मोय
उरिहानो, चोली में पड़ गये दाग, तुरन्त गयौ भाग, कियौ
छल यानै, ऐसौ जसुदा कौ लाल एक नहीं मानें। जब देखूँ
तब खड़ौ अगारी, रस्ता रोक हमारौ॥ मेरी.॥ ये नित
नये फैल मचावै, नांय दहसत मन में खावै, लै ग्वालन कू
संग आवै, मेरे लाल गुलाल लगावै। कहते में आवै लाज,
कहूँ कहा आली, सखी सुन प्यारी। मेरौ लीनों अंग टटोर
झटक लई सारी। रंग बिरंगी करी कुमकुमा तान बदन पै
मारौ॥ मेरी.॥ अब सब मिल सलाह बनाऔ, मोहन कूँ
यहाँ बुलाऔ, ज्वानी को मजा चखाओ, सब बदलौ लेऔ
चुकाय सभी हरसाय, करौ जाकी ख्वारी, कर सोलह सिंगार
हंसौ दै तारी। ‘नारायण घनश्याम’ भयौ घट-घट कौ
जानन हारौ॥ मेरी.॥