भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

केकरो भी राज हुबेॅ केकरो भी पाट हुबेॅ / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केकरो भी राज हुबेॅ केकरो भी पाट हुबेॅ
केकरो भी खाट हुबै हमरा नै सुतै के।
लूट ब्यभिचार याकि तोप हथियार के भी।
बड़का दलाल केॅ भी चुपचाप सहै के।
कैहनो विवशता छै अपना के बीच में भी
आन्हरोॅ सुरंग में भी दिन रात चलै के।
खाहू लेली मिलेॅ या नै रोटी चाहै दोनो वक्त
भुखलोॅ पेटोॅ सें लेकिन मुसकैथें रहै के॥