भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केबाड़ / कुंदन अमिताभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओकरा लेली तेॅ
सब कुछ केबाड़े छेकै
हम्में तोंय आरो सौंसे दुनियाँ
इ पार सें वू पार हुऐ में
हरदम ओकरा
खोै लेॅ पड़ै छै
केबाड़
धरती, सरंग के गलियारा केरऽ
खोलतें-खोलतें केबाड़
मंजाय गेलै वू एत्तेॅ
कि दुनियाँ केरऽ
कोनो केबाड़ खोलेॅ पारेॅ
खाली ओकरा
मौका मिलना चाहियऽ
इ माहिर छेकै
इ महान नारी छेकै
भारतीय नारी
केबाड़ खोलै में सिद्धहस्त।