भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केसर भई राधिका रानी / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केसर भई राधिका रानी,
गलन गलन मिहकानी।
चम्पा, जुही केतकी बेला
ललत बेल लिपटानी
जिनसें भौत तड़ंगें उठतीं
ज्यों गुलाब कौ पानी।
ईसुर किसनचन्द मधुकर नें
लइ सुगन्द मनमानी।