भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

केही केरे सिर सोहे सोने क छतुरिया / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: सिद्धार्थ सिंह

केही केरे सिर सोहे सोने क छतुरिया, केहिया सिर ना
रामा ढुरेला पसीनवा केहिया सिर ना

राम जी के सिर सोहै सोने क छतुरिया, लखन सिर ना
रामा ढुरेला पसीनवा लखन सिर ना

सीता आवो मोरे देवरा अंगन मोरे बैठो, के मैं पोंछी देउ ना
तोहरे सिर का पसीनवा मै पोंछि देउ ना

लक्ष्मण सिर का पसीनवा तु जनि पोंछौ भौजी, के धूमिल होइहैं ना
तोहरी चटकी चुनरिया धूमिल होइहैं ना

सीता चुनरी त हमरी धोबीया घरे जैहैं, के लखन ऐस ना
कहाँ देवरा मैं पैहों के लखन ऐस ना