भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैन बोलि / सुधीर बर्त्वाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूखू बूती हर्ंयु जामणू
कैन बोलि यख कुछ नी रऽजणु ?
कसा त सै कमर
देखा त सै सुपिना
रखा त सै मंथा
घैंटा त सै ठंगरा
करीक यख सब कुछ पऽजणू
कैन बोलि यख कुछ नी फऽबणू ?
फोड़ा त सै ढीका
गाड़ा त सै चाला
चीणा त सै पैरा
बणा त सै बाटु
अखण्ड द्यू अभी भी च जऽगणू
कैन बोलि यख कुछ नी सऽजणू ?
लगा त सै गीत
सरका त सै माया
बरखाऽऽ त सै प्रीत
कमा त सै मान
छाळु पाणी अभी भी च बऽगणू
कैन बोलि यख कुछ नी रऽजणू ?