भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसा आया काल / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धुँध कोहरे से भरी धरती
दिन में हो गई रात
पँछी दुबके घोंसलों में
कैसा आया काल
धरती हुई लाल बिना महाभारत
रक्षक बने भक्षक
कौए करें गुटरगूँ
घोड़े खाएँ घास
पँछी-पँछी को खाए
इन्सान खाए इन्सान।