भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसा वो किरदार था / श्याम सखा 'श्याम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसा वो किरदार था
तेग था तलवार था

आग दोनो ओर थी
पर मिलन दुश्वार था

कहने को थे दिल मिले
पर लुटा घर-बार था

खुशनुमा खबरें पढीं
कब का वो अखबार था

कश्ती मौजों में पहुंची
छुट गया पतवार था

थी जवानी बिक रही
हुस्न का बाजार था

बेवफा थी वो मगर
दिल से मैं लाचार था