भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसी होगी दुनिया / सोनी पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने सबसे पहले
छिपाना सीखा
आँसू
फिर दर्द
फिर जरुरतों का
घोंटती गयी गला
और एक दिन भूल गयी
कि मैं भी कुछ थी
ये एहसास बड़ा विचित्र था
कुछ होने का
कभी सोचने की फुर्सत ही नहीं मिली
जब भी समय मिला
माँ थी
पत्नी थी...बहू और बेटी थी
सब थी
बस नहीं थी तो मैं
और इन दिनों
उफनने लगा है मन
जैसे उफनता है दूध
एक परत उफनती हुई
बहने लगी है
बहुत चिकनी है
इसी चिकनाई में कैद रही
सबको चिकनी सी गुड़िया
सोचती हूँ
मेरी चिकनाई उतरते
खुरदुरी, भोथर औरत जो बची
कैसी होगी दुनिया?