भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसे-कैसे सितम हुए हैं / एन. सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसे-कैसे सितम हुए हैं, आकर देख नज़ारा तू
घर फूँके, अस्मत लूटी है, दीनों का हत्यारा तू
 
हमें बचाओ इन भक्तों से आपस में लड़वाते हैं
कैसा मन्दिर, किसकी मस्जिद, कुर्सी का बँटवारा तू

धूल धरम की झोंक रहे हैं, ये जनता की आँखों में
इन अन्धों को राह दिखा दे, कर दे एक इशारा तू

हर धड़कन को ये बेचेंगे, साँसों के व्यापारी हैं
फिर तुमको कैसे छोड़ेंगे, उनका राज-दुलारा तू

बहुत सहा, अब नहीं सहेंगे, लड़ना है निर्णायक युद्ध
हट जा इनको छोड़ बीच से, कर ले ज़रा किनारा तू