भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसे तय हो कौन बुरा है किसका मस्लक अच्छा है / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसे तय हो कौन बुरा है किसका मस्लक अच्छा है ।
सब की अपनी अपनी मंज़िल अपना अपना रस्ता है ।

मौसम के बल पर ऊँचाई पाने वाले बादल को,
मौसम रुख़ बदले तो पानी-पानी होना पड़ता है ।

यूँ मेरे विश्वास का शीशा चकनाचूर नहीं होता,
तुमने उसको तोड़ा फिर उसके टुकड़ों को तोड़ा है ।

इक आँधी में इतने पेड़ उखड़ते देखे हैं मैंने,
अब पत्ता भी हिलता है तो मेरा दिल काँप उठता है ।

मेरे अन्दर एक मुख़ालिफ़ था जो मुझसे लड़ता था,
अब या तो वो चुप रहता है या हाँ में हाँ करता है ।

हमने पर्वत के सीने पर इतने परचम लहराए,
फिर भी ये एहसास है बाक़ी पर्वत हमसे ऊँचा है ।