भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसे बना सकी खुद को / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोचती रही हूं अक्सर

अंधेरों में कौंधती
बिजलियों के
प्रथम स्पर्श में
क्या दिया था
तुमने

एक फलसफा
जिसे
पढते रहे सब
मगर मैं नहीं

या
एक त्रासदी
जिसे भोगने का
दायित्व दे दिया गया
मुझे

न जाने कब
एक दिन
रंगों से भर गया
कैनवास मेरा

उकेर लिया खुद को