भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कोई आरज़ू नहीं है, कोई मु़द्दा नहीं है/ शकील बँदायूनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
कोई आरज़ू नहीं है, कोई मु़द्दा नहीं है,
तेरा ग़म रहे सलामत, मेरे दिल में क्या नहीं है।

कहां जाम-ए-ग़म की तल्ख़ी, कहाँ ज़िन्दगी का रोना,
मुझे वो दवा मिली है, जो निरी दवा नहीं है।

तू बचाए लाख दामन, मेरा फिर भी है ये दावा,
तेरे दिल में मैं ही मैं हूँ, कोई दूसरा नहीं है।

तुम्हें कह दिया सितमगर, ये कुसूर था ज़बां का,
मुझे तुम मुआफ़ कर दो, मेरा दिल बुरा नहीं है।

मुझे दोस्त कहने वाले, ज़रा दोस्ती निभा ले,
ये मुतालबा[1] है हक़ का, कोई इल्तिजा[2] नहीं है।

ये उदास-उदास चेहरे, ये हसीं-हसीं तबस्सुम,
तेरी अंजुमन में शायद, कोई आईना नहीं है।

मेरी आंख ने तुझे भी, बाख़ुदा 'शकील' पाया,
मैं समझ रहा था मुझसा, कोई दूसरा नहीं है।

शब्दार्थ
  1. माँग
  2. विनती