भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई और तो नहीं / आरती मिश्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम सौंप दोगी
जिस दिन
उसे अपना सम्मान तक

वह तुम्हारे अन्त:देश की
एक-एक अन्तड़ियाँ
हिला-हिलाकर देखेगा

‘वहाँ कोई और तो नहीं!!’