भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई ज़िद थी या समझ का फेर था / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई ज़िद थी या समझ का फेर था।
मान गए वो मैंने जब उल्टी कही।

शक है काफ़िर को मेरे ईमान में।
जैसे मैंने कोई मुँह देखी कही॥

क्या खबर थी यह खुदाई और है।
हाय! क्यों मैंने खु़दा लगती कही॥