भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई पेड़ आँगन में / विकि आर्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई पेड़ आँगन में
होना ही चाहिये...
कि सींचने से लेकर
छांह में भीगने का सुख,
कोंपलों से लेकर
पतझर तक का सफ़र...
हर इक साल
बदलते कैलेण्डर के साथ
नये अनुभव तो
होने ही चाहिये.
कोई पेड़ तो आँगन में
होना ही चाहिये...
कि जब जिंदगी चुक कर
सूखे तने सी दिखने लगे,
पीले - भूरे, चकत्ते भरे पत्ते
स्मृतियों के, लहरा कर गिरने लगें...
किसी दिन उन्हें
बुहारने का सुख
मिलना ही चाहिये,
कोई पेड़ तो आँगन में
होना ही चाहिये.