भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई भी एक वादा तो वफ़ा करते / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई भी एक वादा तो वफ़ा करते
भरोसे का कभी तो हक़ अदा करते

महाजन कर रहे थे धर्म की बातें
अगर हँसते न हम तो और क्या करते

तुम्हें मालूम हो जाता कहाँ हो तुम
कहाँ हैं हम अगर तुम ये पता करते

तबीअत का पुरानापन भी ज़िद्दी है
ज़माना हो गया मेकप नया करते

कोई मक़सद तो होता ज़िंदगानी का
किसी से लौ लगाते कुछ नशा करते