भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई रहबर कोई रहज़न कोई हमदम हुआ होगा / रविंदर कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई रहबर कोई रहज़न कोई हमदम हुआ होगा
रह ए दिल में कोई मेरा शरीक ए ग़म हुआ होगा

वो ठहरे संग दिल, मैंने तो मर कर ज़िन्दगी पाई
उन्हें मरने पे मेरे कौन जाने ग़म हुआ होगा

धड़कना भी उसे अब चैन से हासिल नहीं या रब
मिरे दिल पर मुहब्बत का असर क्या कम हुआ होगा

जिसे देखा तमाशाई बना था उन के जलवों का
उठा परदा तो क्या मालूम क्या आलम हुआ होगा

शब ए ग़म मेरी आँखों से जो बह निकले थे सोते में
तिरा दामन उन्हीं अश्कों से शायद नम हुआ होगा

न मंदिर में, न मस्जिद में, न काशी में, न काबे में
वो तेरा नक़श ए पा जिस पर मिरा सर ख़म हुआ होगा

निकल कर जिस्म से बाहर हयात ए नो मिली मुझको
रवि,ये देख कर हैरान कुल आलम हुआ होगा