भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई साया न शजर याद आया / राशिद हामिदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई साया न शजर याद आया
थक गए पाँव तो घर याद आया

खिल उठे फूल से सहराओं में
फिर वो फ़िरदौस-ए-नज़र याद आया

फिर मेरे पाँव में ज़ंजीर पड़ी
फिर तेरा हुक्म-ए-सफ़र याद आया

लौट जाने को बहुत दिल मचला
क्या पस-ए-गर्द-ए-सफ़र याद आया

सारी उम्मीदों ने दम तोड़ दिया
नख़्ल-ए-बे-बर्ग-ओ-समर याद आया

लाख चाहा था के वो चश्म-ग़ज़ाल
फिर न याद आए मगर याद आया

ख़्वाब और आलम-ए-बे-दारी में
रेत पर रेत का घर याद आया

मर्सिया दिन का लिखा था ‘राशिद’
शब को उनवान-ए-सहर याद आया